Select Page

Dreams are meant to come true ! | सपने साकार होने के लिए तो होते है !

जय.. जय…

ज्योत से प्रकाश, प्रकाश से दर्शन, दर्शन से अमल, अमल से सफलता संभव है ! 

Flame to Light, Light to Vision, Vision to Execution, Execution to Success is Possible !

सपने वो नहीं होते जो हम सोते हुए देखते हैं,
सपने तो वो होते हैं जो हमें सोने ही नहीं देते।

कई तरह के होते हैं सपने :

  • समस्या (Problem), परेशानी (Trouble) तकलीफ़ (Uneasiness) से छुटकारा पाने के सपने।
  • ज़रूरतों (Needs) को पूरा करने,  कमियों (Scarcities) को दूर करने के सपने।
  • लक्ष्य (Goal), उद्देश्य (Purpose), ध्येय (Objective) की सफलता को पाने के सपने।

यह तो सभी चाहते ही है की उनका सपना सच हो, अपना सपना पूरा होने से जो ख़ुशी महसूस होती है, सफलता मिलने पर जो आनंद की अनुभूति होती है; उसका वर्णन शब्दों में भला कहाँ संभव है ?

‘आनंद’ अनुभव ज्ञान की, जो कोई पुछै बात
सो गूंगा गुड़ खाये के, कहे कौन मुख स्वाद।

अपने सपने को पूरा करने के लिए कोई कड़ी मेहनत (Hard Work) करता है तो कोई अपना भाग्य (Luck) आजमाता है तो कोई अपने आराध्य ‘गुरु – देवी देवता’ के आश्रय (Shelter) में जाता है।

आप सभी ‘इष्ट जीवन अभिलाषी’ के भी सपने तो होंगे ही ?

आप भी अपने सपनों को जीने के लिए यथामति (to the best of one’s belief & judgement) – यथाशक्ति (to the utmost of one’s power & capability) प्रयत्न कर ही रहे होंगे !

और शायद अब तक आपके कई सपने साकार भी हुए होंगे।

उसी तरह यह भी हो सकता है की आप अभी भी अपने सपनों को साकार करने हेतु, सफलता को पाने हेतु प्रयासरत होंगे।

आप ‘इष्ट जीवन अभिलाषी’ अपने इन्हीं प्रयासों को और बेहतर ढंग से (in better manner), अधिक उपयोगी तौर तरीकों से (by more useful ways) कर सकें इस उपलक्ष में तो यहाँ प्रस्तुत है ‘इष्ट जीवन ज्योत’ !

‘वेद से लेकर आधुनिक विज्ञान पर्यंत’ के अनेक क्षेत्र तथा विषय का समावेश इस ‘इष्ट जीवन ज्योत’ में किया गया है जिसमें :

योग भी है और आयुर्वेद भी, वास्तु भी है और ज्योतिष भी, अरोमा थेरेपी भी है और कलर थेरेपी भी, रैकी भी है और पिरामिड भी, क्रीड़ा (खेलकूद / Sports) भी है और कला (Art) भी, हिप्नोसिस भी है और परामनोविज्ञान (Parapsychology) भी, साहित्य भी है और अभियांत्रिकी (Engineering) भी, राजनीति भी है और अर्थ-शास्त्र (Economics) भी, कृषि भी है और पशुपालन भी, प्रकृति विज्ञान भी है और तत्वज्ञान चिंतन भी।

‘इष्ट जीवन ज्योत’ अंतर्गत ईस्ट परिणाम हेतु इन क्षेत्र तथा विषयों के सैद्धांतिक एवं व्यावहारिक आयामों (Theoretical & Practical Aspects) को जन सुलभ कराने का प्रयास हो रहा है।

‘इष्ट जीवन ज्योत’ दो प्रकार से प्रस्तुत है ऑनलाइन तथा ऑनग्राउंड (Online & Onground)।

‘इष्ट जीवन संचार’ की आने वाली अगली कड़ी में जानेंगे की किस तरह ‘सर्वेसर्वा परम सत्ता’ द्वारा ‘इष्ट जीवन अभिलाशि’ का ‘पालन-पोषण एवं परिपालन (Caring, Nurturing & Fostering)’ होता रहता है।

जय.. जय…

आपकी टिप्पणियों का यहाँ स्वागत है। कृपया इस पोस्ट पर अपनी टिप्पणी डालने के लिए नीचे स्क्रॉल करें।

Your comments are welcome here. Please scroll down to put your comment on this post.

2 Comments

  1. Ramila Dahyabhai patel

    Really wonderful post about dream and dream fulfillment by isht life
    I like much more thanks sri Samirbhai

  2. D.C. PATEL

    Thanks for a post of good video about dreams and it’s fulfillment towards isht life.

Submit a Comment

If you like the above video, then please click on the “LIKE” button. If you are a Facebook account holder then you can share this page to your Facebook friends also. You may require to login to your Facebook account. If you don’t have FaceBook account, you can comment here below.