Select Page

JAY.. JAY…

चलो जी ले एक बार फिर !

 

जीवन

जिसके कई रूप, कई नाम है । 

जीवन को कभी खेल, नाटक या लीला   तो कभी  यात्रा, सिलसिला या चक्र  कहा गया  है ।  कभी जीवन को संग्राम तो कभी अवसर जताया गया है । 

कभी जुए की बाजी तो कभी  महफिल या जलसा  है जीवन । 

सपना भी हकीक़त भी  तो  पहेली भी  है जीवन । 

आविष्कार से चमत्कार तक, सहकार से उपहार तक, 

आफत से आज़माइश तक बहुत बहुत कुछ है जीवन । 

वाकई में जीवन का क्या कहना, 

इतने विविध रूप और हर रूप की पहचान अपने आप में विलक्षण तथा अनोखी !

जीवन की इतनी अनगिनत पहचान में, अनेक अलग अलग रूप में, जीवन का ‘मूल तत्व’ सभी में समान है ।  और वह है अविरत धारा  Liveliness !

जीवन सदा ही चलता रहता है, 

कभी थंभता नहीं, रुकता नही, 

बस बहेता रहता है, 

हर बार कुछ नया कुछ निराला । 

जीवन का आरंभ जन्म से होता है बस एक बार ही ।

लेकिन कभी कभी जीवन खुद एक बार फिर आरंभ के सौभाग्य को प्राप्त होता है ।  ऐसा किसी के व्यक्तिगत जीवन में तो फिरभि संभव है ।  किंतु अब इतिहास में शायद पहली दफा सारा संसार एक साथ, एक बार फिर जीवन का आरंभ पाने जा रहा है !

जी हाँ अब इतिहास में शायद पहली दफा सारा संसार एक साथ, एक बार फिर जीवन का आरंभ पाने जा रहा है !

जन्म एवं बचपन अबोध अवस्था है । जब हमें खुद के बारे में पूरा होश, पूरी समझ ही नही होती, एक तरह से तो हम उस वक्त पराधीन स्थिति में ही होते है । 

पर आज बात शायद कुछ और है… 

आज जब एक बार फिर जीवन का आरंभ होने का सौभाग्य पाया जा रहा है, तब लोगों के पास बहुत कुछ है । कई मायनों में आज लोग पहले से ज्यादा अनुभवी है ।  कई क्षेत्रों में आज लोग पहले से ज्यादा आत्मनिर्भर है ।  संभव है की आज लोग अपने जीवन का आयोजन पहले से बेहतर ढंग से कर सकते है ।  

इसी परिपेक्ष्य में प्रस्तुत है इष्ट जीवन मंच की मीडिया प्रवृत्ति… 

‘इष्ट जीवन संचार’ 

जीवन को जीवंत करने, जीवंत रखने वाले बुनियादी आयामों से जुड़ी जिज्ञासा और खोज की अभूतपूर्व शृंखला । इस इष्ट जीवन संचार में जीवन को प्रभावित करने वाले विविध विषयों के मौलिक रहस्योद्धाटन का प्रयास होता रहेगा ।

सांप्रत समाज के जागृत, जिम्मेदार एवं प्रवृत्त शिष्ट विशिष्ट ऐसे ‘इष्ट जीवन अभिलाषीओ’ को लक्ष में रख कर यह प्रवृत्ति हो रही है । 

इसलिए यह अपेक्षित है की; हर ‘इष्ट जीवन अभिलाषी’ इस चेनल (channel) को सब्सक्राइब (subscribe) कर के अपना परोक्ष योगदान जरूर प्रेषित करे । 

जय.. जय…

1 Comment

  1. MANJIT SHUKLA

    Excellent…
    Effectively slips in to heart if open 😻

Submit a Comment